समर्थक

सोमवार, 30 जनवरी 2012

ओ मेरी कलम





कलम ओ कलम 
अब तो कुछ बोल 
बहुत उदास है मन 
कोई खिड़की तो खोल...
बहुत साधारण है 
मेरी सोच की दुनिया 
छोटी बहुत है
मेरे शब्दों की दुनिया
तू ही अब कुछ नया बोल...!
मेरे कहे वो सुनता कहाँ है...?
सौ बार पुकारूं बोला कहाँ है...???
धरती का मालिक वो 
अम्बर का स्वामी
तू ही बता उसे 
मेरी बेकली की कहानी...!
हाँ प्रतीक्षा है मात्र प्रतीक्षा 
देर तक दूर तक 
सिर्फ प्रतीक्षा 
एक दिन तो तडपे गी 
उसकी मोहब्बत 
मेरे विश्वास की देख 
नादानी...!

12 टिप्‍पणियां:

Urmi ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ है! बधाई!

Dr.Priya ने कहा…

Thanks so much Urmi...Love to see you again...

namita ने कहा…

सुनेगा न,जरूर सुनेगा.मथानि बहुत देर तक चलानि पड़ती है,जब पोर पोर थकने लगता है तब कहीं जा कर माखन ऊपर आता है.

तड़फ़ शब्दो को चीर बाहर आ रहि है.

नमिता

Rahul Bhatia ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना

Dr.Priya ने कहा…

नमिता दी..
सच है भीतर कुछ तो है...जो तड़प तड़प कर उसे पुकारता है...देखो उत्तर कब मिलता है...
शुक्रिया...

Dr.Priya ने कहा…

Dhanyavaad Rahul ji...

Rachana ने कहा…

ek dinto tadpegi ..............
aapki kavita ki ye panktiyan man ko chhuti hai .
sunder bhavon se kavita ke liye badhai
rachana

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

कलम ने आखिर बोल ही दिया प्रिया जी .....::))

Dr.Priya ने कहा…

Dear Rachana...
Mann ko chhune ki hi to Tadap hai...aapke mann main jaghah mili Dhanyavaad !

Dr.Priya ने कहा…

हरकीरत जी...
कलम तो कब से तड़प रही थी बोलने के लिए...बस मैं ही कुछ ढीली हूँ...आपके आने का बहुत शुक्रिया! मैं अपने पंजाबी ब्लॉग पर भी आपका इंतज़ार करूंगी...! पता है http://sandalipaidan.blogspot.in/
प्रिया

राजेन्द्र अवस्थी ने कहा…

वाह बहुत खूब , लाजवाब , शानदार, बेहतरीन……….

Dr.Priya ने कहा…

राजेंदर जी...
हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत ...धन्यवाद !